मनुष्य होना हमारा भाग्य है , परंतु mahadev भक्त होना परम सौभाग्य है :अनुराग श्रीवास्तव

आर एल पाण्डेय हरदोई। mahadev पावन श्रावण माह के धार्मिक आयोजन के क्रम में ग्राम पंचायत मियांपुर के राजस्व ग्राम हुसैनापुर धौकल स्थित शिव सत्संग मंडल आश्रम के सिद्धनाथ महादेव के शिवालय में प्रभु भोलेनाथ जी की कृपा से मित्र परिवार संस्थापक /

मनुष्य होना हमारा भाग्य है , परंतु mahadev भक्त होना परम सौभाग्य है :अनुराग श्रीवास्तव
मनुष्य होना हमारा भाग्य है , परंतु mahadev भक्त होना परम सौभाग्य है :अनुराग श्रीवास्तव

सयोंजक अनुराग श्रीवास्तव , संस्थापक सदस्य प्रभाकर बाजपेयी , संस्थापक सदस्य शिव प्रसाद श्रीवास्तव , आशुतोष मिश्रा , संदीप शुक्ला,मित्रपरिवार के  अन्य कई सदस्यों एवं शिवभक्तों द्वारा बाबा भोलेनाथ जी का रुद्राभिषेक एवं श्रृंगार पूजन पुरोहित संत कुमार द्विवेदी के निर्देशन में किया गया।

अभिषेक एवं श्रंगार पूजन में मुख्य रूप से शिव सत्संग मंडल ट्रस्ट के अध्यक्ष आचार्य अशोक, पूर्व ब्लॉक प्रमुख प्र. एवं भारतीय जनता पार्टी व्यापार प्रकोष्ठ जिला संयोजक नवनीत गुप्ता,  सुरेंद्र मोहन त्रिवेदी, ध्रुव  तिवारी ,संदीप श्रीवास्तव , भाजपा नेता कुलदीप श्रीवास्तव , रोहित द्विवेदी , सर्वेश शुक्ला,महात्मा शांतानंद, जमुनादीन, प्रेमकुमार,शिक्षक पंकज भाई, स्वामीदयाल, क्षेत्र पंचायत सदस्य नीरज ,मोहित राजपूत,योग प्रशिक्षक सत्यम सक्सेना,पंकज सिंह,देव सिंह, रामकुमार, रमाकांत राजपूत, शिक्षिका पुनीता श्रीवास्तव,अजय गुप्ता, रोहित श्रीवास्तव, शशिकांत शुक्ला,नवीन गुप्ता,राजीव यादव,अमित यादव आदि शिव भक्त उपस्थित रहे।सभी ने सामुहिक रूप से  भगवान भोलेनाथ जी का रुद्राभिषेक एवं श्रृंगार पूजन कर समस्त देशवासियों के लिए मंगल कामना की।

शिव सत्संग मण्डल आश्रम में मण्डल के केन्द्रीय संयोजक अम्बरीष कुमार सक्सेना ने सहधर्मिणी उमा के साथ रुद्राभिषेक किया। इस दौरान बड़ी संख्या में भक्त पहुंचे। वैदिक मंत्रोच्चारण कर भगवान शिव का अभिषेक कर सुख-समृद्धि की मंगल कामना की गई।

भक्तों ने ओम नम: शिवाय,शिव ,शिव,शिव का जाप करके विधि पूर्वक पूजा की।

 इस अवसर पर मण्डल के संयोजक अम्बरीष कुमार सक्सेना ने कहा कि सतयुग, त्रेतायुग ,द्वापर युग, कलयुग सभी युगों में शिव उपासना का सर्वाधिक महत्व रहा है। कलयुग में अमीर-गरीब,ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य या शूद्र कोई भी हो, शिवलिंग बना कर भगवान शिव की अराधना कर सकता है।समापन पर हुए भंडारा में सभी श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण किया ।

अंत में अनुराग श्रीवास्तव ने सभी अभ्यागतों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मनुष्य होना हमारा सौभाग्य है,परंतु महादेव का भक्त होना परम सौभाग्य है।सभी भक्तजन सत्संग,सेवा,सुमिरन में रहकर स्व कल्याण करते हुए समाज कल्याण में सहायक होवें।